Shatva Sandhi in Sanskrit

षत्व संधि | Shatva Sandhi in Sanskrit (Sanskrit Vyakaran)

यदि विसर्ग के पहले या स्वर आए और विसर्ग के बाद में क्, ख्, प् या फ् आए, तो विसर्ग का ष् हो जाता है। जैसे- दु: + करः = दुष्करः

षत्व संधि | Shatva Sandhi in Sanskrit (Sanskrit Vyakaran)

नियम 1 – इ या उ + विसर्ग (:) + क्, ख्, प्, फ् = ष्

दु: + करः = दुष्करः
नि: + कलंकः = निष्कलंकः
नि: + पक्षः = निष्पक्षः
नि: + फलः = निष्फलः
नि: + पापः = निष्पापः
नि: + कपटः = निष्कपटः
बहि: + कृतः = बहिष्कृतः
आवि: + कारः = आविष्कारः
दु: + कर्मः = दुष्कर्मः
चतु: + पादः = चतुष्पादः
दुः + प्रभावः = दुष्प्रभावः


अन्य व्यंजन संधियाँ

1. सत्व संधि
2. षत्व संधि
3. रुत्व संधि
4. उत्व संधि
5. विसर्ग लोप संधि

संस्कृत व्याकरण
संस्कृत में सभी शब्द रूप देखने के लिए शब्द रूप/Shabd Roop पर क्लिक करें और सभी धातु रूप देखने के लिए धातु रूप/Dhatu Roop पर क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!