Aarti

आरती संग्रह

आरती संग्रह में विभिन्न आरतियों का समावेश किया गया है। हिन्दू धर्म में आरती उपासना की एक विधि है। इसमें घी या तेल के दीये में जलती हुई लौ आराध्य के सामाने एक विशेष विधि से घुमाई जाती है। इसमें वैकल्पिक रूप से, घी, धूप तथा सुगंधित पदार्थों को भी मिलाया जाता है। मंदिरों में इसे प्रातः, सांय एवं रात्रि (शयन) में द्वार के बंद होने से पहले किया जाता है।

सामान्यतः पूजा के अंत में आराध्य भगवान की आरती करते हैं। आरती में कई सामग्रियों का प्रयोग किया जाता है। इन सबका विशेष अर्थ होता है। ऐसी मान्यता है कि न केवल आरती करने, बल्कि इसमें सम्मिलित होने पर भी बहुत पुण्य मिलता है। आरती एक विशेष प्रकार का प्रेम, परोपकार और कृतज्ञता गीत है, जो घी या तेल के दीपक के साथ पूजा अनुष्ठान का हिस्सा है। भगवान, दिव्य तत्वों या गुरु (आध्यात्मिक शिक्षक) के लिए आरती की जाती है।

आपके लिए हम यहाँ आरती संग्रह प्रस्तुत कर रहे हैं |

error: Content is protected !!